Breaking News

1 महीने से बंद पड़ी हिमाचल की सीमेंट फैक्ट्रियां ,ट्रकों में लगने लगा जंग

किश्तें भरना हुआ मुश्किल ट्रकों की बैटरियां भी हो गईं डेड

हिमाचल डेस्क – हिमाचल के बरमाणा और दाड़लाघाट में पिछले एक महीने से सीमेंट फैक्ट्री बंद पड़ी हैं .जिसकी सीधी मार ट्रक ऑपरेटरों पर पड़ रही है .बता दें की पिछले एक महीने से हिमाचल में सीमेंट फ़ैक्टरियाँ बंद पड़ी हैं ,और ट्रकों में जंग लगने लगा है .ट्रक ऑपरेटर सीमेंट प्लांट के खुलने का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। तालाबंदी से अधिकांश ऑपरेटरों की बैंक की एक महीने की किस्त टूट गई है।

तालाबंदी हुए एक महीने से अधिक समय बीता

दाड़लाघाट सीमेंट कंपनी में तालाबंदी हुए एक महीने से अधिक समय हो गया है। ऑपरेटरों की गाड़ियां ट्रक यार्ड या सड़कों पर खड़ी हैं। खड़ी गाड़ियां जंग पकड़ने लगी हैं। अधिकांश गाड़ियों की तो बैटरियां तक डेड हो चुकी हैं।

बिटकॉइन से जुड़ा हर लेटेस्ट अपडेट इस लिंक पर पाएं …http://blognext.in

ट्रक संचालकों का चूल्हा जलना हुआ मुश्किल

एक महीने से बंद पड़ी गाड़ियों को दोबारा स्टार्ट करने पर भी खर्च होने वाला है। ऐसे में ट्रक चालकों, मेकेनिकों, ढाबा संचालकों को घरों के चूल्हे जलाने मुश्किल हो रहे हैं। किश्तें निकालना भी ट्रक ऑपरेटरों के लिए मुश्किल हो गया है .हालांकि, कुछ ऑपरेटर अपने चालकों के लिए राशन उपलब्ध करवा रहे हैं, लेकिन कुछ दिनों में उनके भी हाथ खड़े हो जाएंगे।सभी सीमेंट प्लांट के खुलने का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें ……दर्दनाक सड़क हादसा : गहरी खाई में गिरी कार, मौके पर हुई 2 की मौत !

गाड़ियों की किस्त भरना हुआ मुश्किल

अधिकांश ऑपरेटरों के पास पुरानी गाड़ियां हैं। किराया कम होने के चलते चाह कर भी नई गाड़ियां नहीं खरीद पा रहे थे और अब किराया कम करने की बात हो रही है जो सरासर गलत है।कंपनी में तालाबंदी से अधिकांश ऑपरेटरों की बैंक की किस्त देय हो गई है.जिसकी भरपाई ऑपरेटरों के लिए मुश्किल हो जाएगी .ऐसे में तमाम ट्रक ऑपरेटर ,ट्रक संचालक,पेट्रोल कर्मचारी ,ढाबा संचालक बेसब्री से फैक्ट्री वापिस खुलने का इंतज़ार कर रहे हैं .

हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें ….https://www.youtube.com/@newsnext9968

About Bhanu Sharma

Check Also

Farmers Protest

Farmers Protest: दिल्ली 1200 ट्रैक्टरों, बुलडोजरों के लिए तैयार, यातायात प्रभावित

Farmers Protest: सभी फसलों के लिए एमएसपी समर्थन की अपनी मांग पर दबाव बनाने के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *