Breaking News

हिंडनबर्ग की रिपोर्ट से कैसे आया अडानी की ज़िंदगी में भूचाल ? जानिए कब,कैसे,क्या हुआ !

अदाणी एंटरप्राइजेज लिमिटेड ने अपने 20,000 करोड़ रुपये के FPO को रद्द कर दिया।

नेशनल डेस्क- पिछले कुछ समय से अदाणी एंटरप्राइजेज लिमिटेड विवादों के घेरे में है। और वजह है हिंडनबर्ग की आई रिपोर्ट,जिसने इस विवाद को जन्म दिया। बता दें कि AEL ने एक फरवरी को अपने 20,000 करोड़ रुपये के फॉलोऑन पब्लिक ऑफर को रद्द कर दिया। इसे वापस लेने और निवेशकों को पैसा लौटाने की एक वजह हिंडनबर्ग की वह रिपोर्ट मानी जा रही है, जिसकी वजह से अदाणी ग्रुप की कई कंपनियों के शेयरों में भारी गिरावट देखी गई।

ये भी पढ़ें…..अडाणी ग्रुप पर हिंडनबर्ग की रिपोर्ट को लेकर संसद में जमकर हंगामा !

कंपनी ने 20,000 करोड़ का FPO किया रद्द

अदाणी एंटरप्राइजेस ने 20,000 करोड़ का FPO रद्द कर दिया। कंपनी ने कहा कि कंपनी अपने एफपीओ के हिस्से के रूप में प्राप्त आय को वापस कर देगी.जिसे 31 जनवरी को कॉर्पोरेट्स और विदेशी निवेशकों द्वारा बड़े पैमाने पर समर्थन दिया गया था। ‘हिंडनबर्ग रिसर्च’ की पिछले हफ्ते आई रिपोर्ट के बाद अदाणी समूह की कंपनियों के शेयरों में लगातार गिरावट आ रही है।जिसके बाद कम्पनी ने ये फैसला लिया।

BITCOIN से जुड़ा हर लेटेस्ट अपडेट इस LINK पर पाएं…..http://blognext.in

हिंडनबर्ग की रिपोर्ट ने लाया भुचाल

हिंडनबर्ग की रिपोर्ट ने अडानी के जीवन में उथल -पुथल मचा दी है। जबसे वो रिपोर्ट सामने आई है, तबसे अडानी समूह पर खतरे के बादल मंडरा रहे हैं। बता दें कि हिंडनबर्ग नाम की अमेरिकी फर्म ने उद्योगपति गौतम अदाणी की अगुवाई वाले समूह की कंपनियों के बारे में एक रिपोर्ट जारी की। रिपोर्ट में अदाणी समूह पर शेयरों में गड़बड़ी और लेखा धोखाधड़ी में शामिल होने का आरोप लगाया गया।

अदाणी समूह की सूचीबद्ध कंपनियों के शेयरों में बड़ी गिरावट

हिंडनबर्ग की रिपोर्ट के आने के बाद अचानक से अदाणी समूह की सूचीबद्ध कंपनियों के शेयरों में भारी गिरावट आई। क्योंकि रिपोर्ट में ये दावा किया गया है कि अडानी समूह के शेयरों में बड़ी गड़बड़ी है.इसके बाद कंपनी ने अपना पक्ष रखा और अदाणी समूह के CFO जुगशिंदर सिंह ने एक वीडियो जारी किया।वीडियो में कंपनी ने आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया। उन्होंने कहा की ये तमाम आरोप निराधार है।

अदाणी समूह करेगा हिंडनबर्ग पर कानूनी कार्यवाही

अदाणी समूह ने हिंडनबर्ग के आरोपों को सिरे से खारिज किया। अदाणी समूह ने कहा कि अमेरिकी कंपनी उनकी प्रतिष्ठा और कंपनी के शेयर बिक्री को नुकसान पहुंचाने की कोशिश कर रही है।इसके आलावा अडानी समूह ने हिंडनबर्ग रिसर्च के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई को लेकर कानूनी विकल्पों पर गौर करने की भी बात कही.इसके विपरीत हिंडनबर्ग रिसर्च ने कहा कि वह अपनी रिपोर्ट पर पूरी तरह कायम है.

 413 पन्नों का जवाब

इन सब विवादों के बीच अडानी समूह ने 413 पन्नों का जवाब पत्र जारी किया। अडानी समूह ने कहा कि हिंडनबर्ग की ये रिपोर्ट भारत देश के विकास और सुनियोजित योजनाओं पर एक नकारात्मक हमला है।अडानी समूह ने हिंडनबर्ग के सभी आरोपों को झूठ करार दिया। बता दें कि अडानी समूह ने 413 पन्नों का जवाब पत्र जारी किया ,जिसमें उन्होंने रिपोर्ट में उठाये 88 सवालों का भी जवाब दिया।

अदाणी की संपत्ति में 8.5 बिलियन डॉलर की कमी

गौतम अडानी को एक और तगड़ा झटका इस सब के बीच लगा। शेयरों में भारी गिरावट के साथ आपको बता दें कि ,अदाणी की संपत्ति 8.5 बिलियन डॉलर की कमी दर्ज़ की गई। और अब गौतम अडानी की संपत्ति 88.2 बिलियन डॉलर तक पहुंच गई है।

गौतम अडानी ने जारी किया वीडियो सन्देश

हिंडनबर्ग की रिपोर्ट आने के बाद गौतम अडानी शेयरों में तेज़ी से गिरावट आई। और गौतम अदाणी की संपत्ति घटकर 88.2 बिलियन डॉलर तक पहुंच गई. हिंडनबर्ग रिपोर्ट आने से पहले गौतम अदाणी की संपत्ति 120 अरब डॉलर थी। इस आधार पर अदाणी की संपत्ति 45 अरब डॉलर घट चुकी है। इन विवादों के बीच अडानी ने खुद सामने आकर एक वीडियो सन्देश जारी किया ,जिसमे उन्होंने कहा एफपीओ के साथ आगे बढ़ना नैतिक रूप से सही नहीं होगा.

हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें…..https://www.youtube.com/@newsnext9968

About Bhanu Sharma

Check Also

इंडिया गठबंधन की रैली में जमकर चली कुर्सियां, आपस में ही भिड़े RJD-कांग्रेस के कार्यकर्ता

  इंडिया गठबंधन की रैली में जमकर चली कुर्सियां, आपस में ही भिड़े RJD-कांग्रेस के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *